Current Details

देश के पहले हाई-स्पीड ग्रामीण ब्रॉडबैंड नेटवर्क का शुभारंभ

- केंद्रीय संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री ने केरल के इदुक्की जिले में आज यानी 12 जनवरी को डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के अंतर्गत भारत के पहले हाई-स्पीड ग्रामीण ब्रॉडबैंड नेटवर्क का शुभारंभ किया।

- डिजिटल इंडिया के नए युग के सूत्रपात में यह आयोजन एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। नेशनल ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क (एनओएफएन) दुनिया में अपने किस्म की विशालतम ग्रामीण कनेक्टिविटी परियोजना है। 
- यह ब्रॉडबैंड ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क के माध्यम से भारत की 2.5 लाख पंचायतों में से प्रत्येक को जोड़ेगा।

=>योजना का वित्त पोषण :-
-
भारत सरकार के संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के दूरसंचार विभाग के यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (यूएसओएफ) द्वारा वित्त पोषित एनओएफएन की परिकल्पना भेदभावरहित दूरसंचार अवसंरचना के रूप में की गई है, जो ग्रामीण दूरसंचार पहुंच की खामियों को दूर करेगा।

=>"उद्देश्य "
-
एनओएफएन, 2.5 लाख पंचायतों में से प्रत्येक को 100 एमबीपीएस की बैंडविड्थ प्राप्त करने में सक्षम बनाएगा, और 
- इस प्रकार यह भविष्य में -हेल्थ, -एजुकेशन, -गर्वनेंस और -कॉमर्स जैसी विभिन्न -सर्विसिज और एप्लीकेशंस प्रदान करने में सहायक सिद्ध होगा।
- एनओएफएन द्वारा देश के 60 करोड़ से ज्यादा ग्रामीणों को ब्रॉडबैंड कनेक्टीविटी सुगम कराए जाने की संभावना है।

=>"चरण"-
-
पहले चरण में एनओएफएन के दायरे में 50,000 ग्राम पंचायतों को लाया जाएगा और शेष 2,00,000 ग्राम पंचायतों को 2016 तक चरणबद्ध ढंग से कवर किया जाएगा। 
- पहले चरण में यह परियोजना तीन केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (सीपीएसयू)- बीएसएनएल, पीजीसीआईएल और रेलटेल के माध्यम से कार्यान्वित की जा रही है।

- अपेक्षाकृत दुर्गम और विशाल जनजातीय एवं ग्रामीण आबादी वाले इदुक्की जिले में प्रारम्भ के साथ, वह देश का पहला ऎसा जिला बन जाएगा, जिसकी सभी पंचायतें एनओएफएन के माध्यम से जुड़ी होंगी। 
- इससे विभिन्न सेवाओं जैसे पंचायत स्तर पर सरकारी योजनाओं का स्थानीय नियोजन, प्रबंधन एवं निगरानी तथा भुगतान

Back to Top