Current Details

जैव विविधता पर यूएन के लक्ष्य से पीछे है दुनिया

- दुनियाभर की सरकारें पशुओं और वनस्पतियों की सुरक्षा के लिए निर्धारित संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के लक्ष्यों से पीछे चल रही हैं। 

- यूएन ने 2020 के लिए तैयार जैव विविधता योजना में ये लक्ष्य निर्धारित किए हैं।
- दक्षिण कोरिया में शुरू हुई जैव विविधता बैठक में यूएन की "वैश्विक जैव विविधता परिदृश्य" रिपोर्ट जारी हुई।

- इसके अनुसार प्रकृति को नुकसान पहुंचाने वाली गतिविधियों को कम करने पर 2010 में यूएन में बनी सहमति के बाद भी लोगों द्वारा खतरे की हद तक जंगलों को काटना और मछलियों का शिकार जारी है।

- कंवेंशन ऑन बायोलॉजिकल डायवर्सिटी (सीबीडी) के कार्यकारी सचिव ब्रोलियो डी सूजा डियास ने कहा, "सरकारों की ओर से प्रयास में बढ़ोतरी हुई है लेकिन यह लक्ष्य की प्राप्ति के लिए पर्याप्त नहीं है।"

- रिपोर्ट के अनुसार यूएन की ओर से प्रकृति के संरक्षण के लिए निर्धारित 53 लक्ष्यों में से सिर्फ पांच ही लक्ष्य निर्धारित योजना के अनुसार बढ़ रहे हैं। 48 लक्ष्यों पर सरकारें योजना से पीछे हैं। 
- सरकारें पार्क या रिजर्व के माध्यम से 2020 तक विश्व में 17 फीसदी जमीन को वन्यजीवों के लिए सुरक्षित करने के लक्ष्य की ओर सही गति से बढ़ रही हैं।
- वहीं प्राकृतिक आवासों के नष्ट होने की दर को आधा करने या लुप्तप्राय प्रजातियों की हिफाजत के लक्ष्य में सरकारें असफल हो रही हैं।

=>जीवों के लुप्त होने का बढ़ा खतरा
- रिपोर्ट में कहा गया है कि कुछ चुनिंदा सफलताओं को छोड़ दिया जाए तो पक्षियों, स्तनधारियों और उभयचरों की बहुत सी प्रजातियों के लुप्त होने का खतरा लगातार बढ़ रहा है।

 

Back to Top