Current Details

मरुस्थलीकरण : भारत का चौथाई भूभाग हो रहा रेगिस्‍तान में तब्‍दील

- भारत के भूभाग का एक चौथाई हिस्सा तेजी से रेगिस्तान में तब्दील हो रहा है।
- देश में कृषि भूमि की उर्वरता खत्म होने का संकट I
- इससे दुनिया के दूसरे सबसे बड़ी आबादी वाले देश में खाद्य सुरक्षा पर संकट आ सकता है।
- भारत के पास दुनिया के कुल भूभाग का महज 2.4 फीसदी ही है, जबकि आबादी 17.5 फीसदी।
- इस कारण यहां जमीन और खेतों के अत्यधिक प्रयोग की स्थिति उत्पन्न हुई।
- इसी के साथ यहां बारिश के पैटर्न में होने वाला बदलाव मरुस्थलीकरण का कारण बन रहा है।
- "भूमि बंजर हो रही है और गुणवत्ता लगातार गिर रही है। बहुत बड़ा हिस्सा रेगिस्तान बनने की कगार पर है, लेकिन इसे रोका जा सकता है।"
- भूमि की गुणवत्ता गिरने का अर्थ है उसकी उत्पादकता में कमी आना।
- वर्तमान समय में 10.5 करोड़ हेक्टेयर भूमि की गुणवत्ता कम हुई है। यह कुल भूभाग का 32 फीसदी है।
- इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन की ओर से मरुस्थलीकरण पर तैयार रिपोर्ट के अनुसार, देश में कुल भूमि का 69 फीसदी हिस्सा सूखा है, जिस कारण वहां जल और वायु क्षरण, लवणीकरण और जल जमाव की स्थितियां बनती हैं।
- राजस्थान, गुजरात, पंजाब, हरियाणा, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश सर्वाधिक सूखे क्षेत्रों में से हैं। ये राज्य देश के प्रमुख कपास उत्पादक राज्य भी हैं।

Back to Top