Current Details

केंद्र सरकार द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं की फंडिंग में परिवर्तन

&raquo;&nbsp;केंद्र की योजनाओं को चलाने के लिए राज्यों को अब अपनी जेब ढीली करनी पड़ेगी। केंद्रीय करों में राज्यों की हिस्सेदारी बढ़ने के मद्देनजर सरकार केंद्र प्रायोजित योजनाओं के फंडिग के तरीके में व्यापक बदलाव करने की जा रही है।<br /> <br/>&raquo;&nbsp;प्रस्तावित बदलावों के लागू होने पर करीब दो दर्जन केंद्र प्रायोजित योजनाओं में राज्यों को पहले की अपेक्षा अधिक अंशदान देना होगा।<br /> <br/>&raquo;&nbsp;मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में नीति आयोग का उप-समूह केंद्र प्रायोजित योजनाओं में बदलाव के प्रस्ताव पर विचार-विमर्श करेगा। इस उपसमूह में दर्जनभर मुख्यमंत्री शामिल हैं। समूह अपनी रिपोर्ट प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल को सौंपेगा।<br /> <br/>&raquo;&nbsp;24 केंद्र प्रायोजित योजनाओं में केंद्र और राज्यों के अंशदान में बदलाव होना है। इनमें राष्ट्रीय कृषि विकास योजना, स्वच्छ भारत अभियान, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, सबके लिए आवास जैसी महत्वपूर्ण योजनाएं शामिल हैं।<br /> <br/>&raquo;&nbsp;इंदिरा आवास योजना में फिलहाल केंद्र का अंशदान विशेष श्रेणी वाले राज्यों के लिए 90:10 के अनुपात में होता है वहीं सामान्य श्रेणी के राज्यों के संबंध में यह अनुपात 75:25 का है। मुख्यमंत्रियों का उप-समूह इसमें परिवर्तन कर सकता है।<br /> <br/>&raquo;&nbsp;चौदहवें वित्त आयोग की सिफारिशें लागू होने के बाद केंद्रीय करों में राज्यों का हिस्सा 32 प्रतिशत से बढ़कर 42 प्रतिशत हो गया है। इस कारण केंद्र प्रायोजित योजनाओं के लिए मौजूदा फंडिंग को बरकरार रखना केंद्र के लिए संभव नहीं है।<br /> <br/>&raquo;&nbsp;उल्लेखनीय है कि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आम बजट में आठ केंद्र प्रायोजित योजनाओं को केंद्र सरकार की ओर से फंडिंग बंद करने की घोषणा की है।<br /> <br/>&raquo;&nbsp;इन आठ योजनाओं में छह हजार मॉडल स्कूलों की योजना और पिछड़ा क्षेत्र अनुदान कोष (बीआरजीएफ) शामिल हैं। वहीं मनरेगा सहित 31 केंद्र प्रायोजित योजनाओं की पूरी फंडिंग केंद्र सरकार करती रहेगी।<br /> <br/>&raquo;&nbsp;नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल से मंजूर होने के बाद उपसमूह की सिफारिशें एक अप्रैल 2015 से लागू होंगी। चौहान की अध्यक्षता वाले इस उपसमूह का गठन नीति आयोग की पहली बैठक में किया गया था।<br />

Back to Top