Current Details

जीवन की उत्पत्ति:-नासा ने जीवन के महत्वपूर्ण अवयवों को प्रयोगशाला में तैयार किया

&raquo;&nbsp; जीवन की उत्पत्ति का अध्ययन कर रहे अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों ने जीवों के आनुवांशिक पदार्थ के तीन अवयवों को प्रयोगशाला में बनाने में सफलता पाई है।<br /> <br/>&raquo;&nbsp; शोधकर्ताओं ने पता लगाया है कि अंतरिक्ष जैसे हालात में बर्फ एक नमूने में जिसमें पाइरिमिडीन होता है जब पराबैंगनी विकिरण (अल्ट्रावायलेट रेडिएशन) के संपर्क में आता है तो जीवन के तीन अनिवार्य अवयव पैदा करता है।<br /> <br/>&raquo;&nbsp; पाइरिमिडीन एक अंगूठी के आकार का अणु होता है जो कार्बन और नाइट्रोजन से बना होता है। यह यूरेसिल, साइटोसीन और थाइमीन का सबसे महत्वपूर्ण संरचना है।<br /> <br/>&raquo;&nbsp; आरएनए और डीएनए में जो अनुवांशिक कोड पाए जाते हैं ये सभी उनका हिस्सा हैं।<br /> <br/>&raquo;&nbsp; आएनए और डीएनए प्रोटीन सिंथेसिस के मुख्य भाग होते हैं लेकिन इनकी और भी कई भूमिकाएं हैं।<br /> <br/>&raquo;&nbsp;इस शोध ने पहली बार यह दिखाया है कि हम आरएनए और डीएनए के मुख्य अवयव यूरेसिल, साइटोसीन और थाइमीन को गैर जैविक तरीके से अंतरिक्ष जैसे हालात में प्रयोगशाला में भी पैदा कर सकते हैं।&quot;<br /> <br/>&raquo;&nbsp;बर्फ के नमूने पर एक हाइड्रोजन लैंप की सहायता से उनलोगों ने उच्च-ऊर्जा वाले पराबैंगनी प्रोटोन की बौछार की तो बर्फ के रासायनिक बांड टूट गए। बर्फ के अणु टुकड़ों में टूटने के बाद नए मिश्रण जैसे यूरेसिल, साइटोसीन और थाइमीन बनाने के लिए फिर से जुट गए।<br /> <br/>&raquo;&nbsp;धरती पर पाए जाने वाले सभी जीवों में आरएनए और डीएनए पाया जाता है और उन दोनों में तीनों अवयव मिलते हैं।<br /> <br/>&raquo;&nbsp; वास्तव में कोई नहीं समझता कि वास्तव में पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत कैसे हुई। हमारे प्रयोग से यह पता लगता है कि जब पृथ्वी बनी होगी तब जीवन के निर्माण के लिए कई चीजें शुरुआत से ही मौजूद रही होंगी।<br />

Back to Top