Current Details

धन बिल

<p> &bull;&nbsp; विधेयक जो पूर्णतः एक या अधिक मामले जिनका वर्णन अनुच्छेद 110 मे किया गया हो से जुडा हो धन बिल कहलाता है ये मामलें है<br /> &nbsp;</p> <p style="margin-left: 40px;"> <span style="color:#696969;">1. किसी कर को लगाना, हटाना, नियमन<br /> 2. धन उधार लेना या कोई वित्तेय जिम्मेदारी जो भारत सरकार ले<br /> 3. भारत की आपात/संचित निधि से धन की निकासी/जमा करना<br /> 4.संचित निधि की धन मात्रा का निर्धारण<br /> 5. ऐसे व्यय जिन्हें भारत की संचित निधि पे भारित घोषित करना हो<br /> 6. संचित निधि मे धन निकालने की स्वीकृति लेना<br /> 7. ऐसा कोई मामला लेना जो इस सबसे भिन्न हो</span></p> <br /> <br /> <p> &bull;&nbsp;धन बिल केवल लोकसभा मे प्रस्तावित किए जा सकते है इसे लाने से पूर्व राष्ट्रपति की स्वीकृति आवशय्क है इन्हें पास करने के लिये सदन का सामान्य बहुमत आवश्यक होता है<br /> <br /> &bull;&nbsp;धन बिल मे ना तो राज्य सभा संशोधन कर सकती है न अस्वीकार<br /> <br /> &bull;&nbsp;जब कोई धन बिल लोकसभा पारित करती है तो स्पीकर के प्रमाणन के साथ यह बिल राज्यसभा मे ले जाया जाता है राज्यसभा इस बिल को पारित कर सकती है या 14 दिन के लिये रोक सकती है किंतु उस के बाद यह बिल दोनों सदनों द्वारा पारित माना जायेगा I<br /> <br /> &bull;&nbsp;राज्य सभा द्वारा सुझाया कोई भी संशोधन लोक सभा की इच्छा पे निर्भर करेगा कि वो स्वीकार करे या ना करेI<br /> <br /> &bull;&nbsp;जब इस बिल को राष्ट्रपति के पास भेजा जायेगा तो वह सदैव इसे स्वीकृति दे देगाI<br /> <strong><span style="color:#800000;">वित्त विधेयक ( Financial Bill) :</span></strong>&bull;&nbsp;फायनेसियल बिल वह विधेयक जो एक या अधिक मनीबिल प्रावधानों से पृथक हो तथा गैर मनी मामलों से भी संबधित हो I<br /> &bull;&nbsp;एक फाइनेंस विधेयक मे धन प्रावधानॉ के साथ साथ सामान्य विधायन से जुडे मामले भी होते हैI<br /> &bull;&nbsp;सरकार नया कर लगाने और कर प्रस्तावों में बदलाव का काम वित्त विधेयक के जरिए करती है।<br /> &bull;&nbsp;इस प्रकार के विधेयक को पारित करने की शक्ति दोनो सदनॉ मे समान होती है।<br /> <strong><span style="color:#800000;">विनियोग विधेयक:- </span></strong>सरकार को देश की संचित निधि से खर्च करने से पहले संसद की मंजूरी लेनी होती है। सरकार जिस विधेयक के जरिए संचित निधि से खर्च की मंजूरी लेती है, उसे विनियोग विधेयक कहते हैं।<br /> &bull;&nbsp;विनियोग और वित्त विधेयक बजट का हिस्सा होते हैं।<br /> &nbsp;</p> <p> &nbsp;</p>

Back to Top