Current Details

भारतीय प्रधानमंत्री की हिंद महासागर स्थित प्रमुख देशों सेशेल्स, मॉरीशस और श्रीलंका की महत्वपूर

&bull;&nbsp; प्रधानमंत्री तीन देशों की अपनी पांच दिवसीय यात्रा के पहले पड़ाव में सेशेल्स पहुंचे। कोई भारतीय प्रधानमंत्री 33 साल बाद सेशेल्स पहुंचा है।<br /> &bull;&nbsp;हिंद महासागर के इन प्रमुख देशों की यात्रा के दौरान वह मॉरीशस और फिर अंत में श्रीलंका भी जाएंगे।<br /> &bull;&nbsp; भारत का मत है कि देश की सुरक्षा और प्रगति के लिए इन तीनों देशों से मजबूत रिश्ते अहम हैं।<br /> &bull;&nbsp; हिंद महासागर क्षेत्र में इस सामरिक जलमार्ग पर भारत अपना प्रभाव बनाना चाहता है।<br /> &bull;&nbsp; प्रधानमंत्री की ये यात्रा ना सिर्फ ऐतिहासिक संबंध बनाने में मददगार होगी बल्कि रक्षा और आर्थिक क्षेत्र में भी सहयोग बढ़ेगा।<br /> &bull;&nbsp; प्रधानमंत्री की इन तीन द्वीप देशों की यात्रा का मकसद चीन की हिंद महासागर क्षेत्र में अपना प्रभाव बढ़ाने की महत्वाकांक्षा के जवाब में भी हो रहा है।<br /> &bull;&nbsp; 1981 के बाद सेशेल्स जाने वाले वह पहले प्रधानमंत्री हैं। वह वहां के राष्ट्रपति जेम्स माइकल से मिले।<br /> &bull;&nbsp; 11 मार्च को वह मारीशस पहुंचें। वहां वह 12 को मारीशस के स्वतंत्रता दिवस पर मुख्य अतिथि बने।<br /> &bull;&nbsp;इसी दिन भारत में महात्मा गांधी ने भी डांडी मार्च शुरू किया था।<br /> &bull;&nbsp;उनकी यह यात्रा पुराने समय के &quot;छोटा भारत&quot; से रिश्ते और मजबूत करेगी। वह भारत निर्मित पोत बारीकुडा भी देखने जाएंगे। अंत में मोदी श्रीलंका जाएंगे।<br /> &bull;&nbsp; वह 1987 के बाद से श्रीलंका जाने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं। वह वहां की संसद को भी संबोधित करेंगे।<br />

Back to Top