Current Details

बैंक बोर्ड ब्यूरो

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अगले वित्त वर्ष के लिए पेश आम बजट में एक स्वायत्त बैंक बोर्ड ब्यूरो के गठन का प्रस्ताव किया है।<br/><br/> <strong><span style="color:#800000;">बैंक बोर्ड ब्यूरो के उद्देश्य और कार्य :-</span></strong><br/> &bull;&nbsp;सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के प्रमुखों की खोज और चयन करेगा (बैंक प्रमुखों के पद पर नियुक्तियों में अहम भूमिका)।<br/> &bull;&nbsp;साथ ही उन्हें नवोन्मेषी वित्तीय तरीके और उपाय के संबंध में पूंजी जुटाने की योजनाओं अलग-अलग रणनीतियां विकसित करने में उनकी मदद करेगा।<br/> &bull;&nbsp;यह बैंकों के लिए होल्डिंग एवं निवेश कंपनी स्थापित करने की दिशा में कदम होगा।&nbsp;<br/> &bull;&nbsp;बैंक बोर्ड ब्यूरो विलय और अधिग्रहण के नियम भी तय करेगा।&nbsp;<br/> &bull;&nbsp;सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में कामकाज सुधारने के लिए सुझाव देगा&nbsp;<br/> &bull;&nbsp;विस्तार की जरूरतों को पूरा करने के लिए बैंक को पूजी जुटाने में मदद की जा सके।&nbsp;<br/> &bull;&nbsp;बोर्ड का काम बैंकों को फंड जुटाने के लिए रणनीति बनाने में मदद करना भी होगा।<br/> &bull;&nbsp;यह सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की शीर्षस्थ संस्था होगी। माना जा रहा है कि इस बोर्ड में छह सदस्य होंगे और इसकी अध्यक्षता वित्तीय सेवा सचिव करेंगे।<br/> &bull;&nbsp;वित्त मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि इस बोर्ड का गठन जल्द ही कर दिया जाएगा।<br/> &bull;&nbsp;एक बार बोर्ड ब्यूरो के गठित हो जाने के बाद बैंक प्रमुखों की तलाश से लेकर उनके चयन तक का काम इसी ब्यूरो का होगा।<br/> &bull;&nbsp;बैंक के लिए गैर कार्यकारी चेयरमैन और गैर सरकारी सदस्यों के चयन की जिम्मेदारी भी इसी बोर्ड की होगी। साथ ही बैंकों में विलय की प्रक्रिया पर भी यही ब्यूरो काम आगे बढ़ाएगा। बैंकों की जरूरत के मुताबिक विलय प्रस्ताव तैयार होंगे और विलय के नियम तय होंगे।

Back to Top