Current Details

बंद होंगी नौ रुग्ण सरकारी कंपनियां

&bull;&nbsp;केंद्र सरकार ने गंभीर रूप से बीमार सार्वजनिक क्षेत्र की नौ रुग्ण यूनिटों को बंद करने की मंजूरी दे दी है।&nbsp;<br/><br/> &bull;&nbsp;एक समय देश की सबसे लोकप्रिय घड़ी निर्माता रही एचएमटी वाचेस भी इनमें शामिल है।&nbsp;<br/><br/> &bull;&nbsp;इन नौ रुग्ण सार्वजनिक उपक्रमों यानी पीएसयू को कुल घाटा 3,439 करोड़ रुपये से भी ज्यादा हो चुका है।<br/><br/> &bull;&nbsp;सरकार ने कुल 55 सार्वजनिक उपक्रमों (पीएसयू) की छानबीन और समीक्षा की है। इनमें से 46 यूनिटों के पुनरोद्धार या पुनर्गठन और नौ को बंद करने का अनुमोदन किया जा चुका है।&nbsp;<br/><br/> &bull;&nbsp;बंद होने जा रही यूनिटों में एचएमटी चिनार वाचेस, एचएमटी बियरिंग्स, तुंगभद्रा स्टील प्रोडक्ट्स, हिंदुस्तान फोटो फिल्म्स मैन्यूफैक्चरिंग, हिंदुस्तान केबल्स और स्पाइस ट्रेडिंग कॉरपोरेशन शामिल हैं।<br/><br/> &bull;&nbsp;इसके अलावा भारत ऑप्थेल्मिक ग्लास और भारत यंत्र निगम पहले ही अपनी यूनिटें बंद कर चुकी हैं।&nbsp;<br/><br/> &bull;&nbsp;इन बीमार कंपनियों में हिंदुस्तान फोटो फिल्म्स ने साल 2012-13 में सबसे ज्यादा 1,561 करोड़ रुपये का घाटा उठाया है।<br/><br/> &bull;&nbsp;हिंदुस्तान केबल्स का कुल घाटा भी 885 करोड़ रुपये से ज्यादा रहा है।<br/><br/> <span style="color:#800000;"><strong>इन कंपनियों का होगा उद्धार:-</strong></span></div> <div> सार्वजनिक क्षेत्र के जिन उपक्रमों का पुनर्गठन या पुनरोद्धार किया जाएगा, उनमें स्कूटर्स इंडिया, टायर कॉरपोरेशन व हिंदुस्तान एंटीबायोटिक्स शामिल हैं। इन्हें संयुक्त उद्यम या विनिवेश के जरिये उबारा जाएगा।</div> <div> &nbsp;</div>

Back to Top