Current Details

टेक्टोनिक प्लेट में अचानक हलचल का खुला राज

<p> &bull;&nbsp; पृथ्वी की सतह के नीचे कई दृढ़ परतें हैं जो अलग-अलग दिशाओं में गतिशील हैं। इनमें से ही एक हैं भूकंप जनक परतें (टेक्टोनिक प्लेट)।</p> <p> <br /> &bull;&nbsp; शोधकर्ताओं के मुताबिक महाद्वीपों की मोटी परत और कमजोर खनिजों के सम्मिलित प्रभाव के कारण ये परतें आपस में टकराती हैं। इससे पैदा ऊर्जा के कारण परतें क्षितिज यानी ऊपर की ओर बढ़ती हैं और धरती हिलने लगती है।</p> <p> <br /> &bull;&nbsp; पारंपरिक तौर पर वैज्ञानिक मानते हैं कि पृथ्वी की चट्टानी सतह के शीर्ष आवरण के भारी होने, धीरे-धीरे दबने और ठंडा होने के कारण भूकंप जनक परतों को इनकी सहायक परतें खींचती हैं।</p> <p> <br /> &bull;&nbsp; लेकिन, अचानक हलचल के लिए यह प्रक्रिया जवाबदेह नहीं होती। अचानक हलचल के लिए जरूरी है कि परतों से पट्टियां अलग हो जाएं। लेकिन, यह तेजी से तब तक मुमकिन नहीं है जब तक पट्टियां काफी कठोर या ठंडी न हो जाएं।</p> <p> <br /> &bull;&nbsp; येल के शोधकर्ताओं के अनुसार इसके लिए अतिरक्त कारक जिम्मेदार होते हैं। महाद्वीपों या समुद्री प्लैटोक्स की मोटी परत पुरानी और ठंडी समुद्री परत के नीचे खिसक जाती हैं। इससे पैदा दबाव के कारण परतें टूटने लगती हैं।</p> <p> <br /> &bull;&nbsp; यह प्रक्रिया तब गति पकड़ती है जब पट्टियों में मौजूद खनिज सिकुड़ने लगता है और पट्टियां लगातार कमजोर होती जाती हैं।</p> <p> <br /> &bull;&nbsp; इस अध्ययन से पता चलता है कि किस तरह भूकंप जनक परतें पृथ्वी का इतिहास बदल देती हैं।<br /> &nbsp;</p>

Back to Top