Current Details

रडार जैमर से लैस तेजस की पहली उड़ान

<div> &raquo;&nbsp; रडार जैमर से लैस हल्का लड़ाकू विमान तेजस-पी 5 ने पहली उड़ान भरी। रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (डीआरडीओ) के अध्यक्ष अविनाश चंदर ने इस उपलब्धि पर कहा कि तेजस की सफलता हमारे हल्के लड़ाकू विमान की क्षमता को बढ़ाने में मददगार साबित होगी।</div> <div> &raquo;&nbsp; यह पहली बार है जब हमने रडार की पकड़ में न आने वाले विमान को विकसित किया है।&nbsp;</div> <div> &raquo;&nbsp; इस तरह के लड़ाकू विमान की यह पहली उड़ान थी।&nbsp;</div> <div> &raquo;&nbsp; तेजस-पी 5 में जैमर लगा हुआ है, जो किसी दुश्मन देश की रडार में पकड़ में नहीं आएगा।</div> <div> &raquo;&nbsp; यदि रडार की पकड़ में आ भी जाता है तो यह पहले ही विमान के चालक को चेतावनी संदेश जारी कर देगा।&nbsp;</div> <div> &raquo;&nbsp; उड़ान मंजूरी और प्रमाण पत्र हासिल करने के बाद देश में निर्मित तेजस श्रेणी के इस विमान ने पहली उड़ान भरी।</div> <div> &nbsp;</div> <div> <strong><u>&quot;रडार जैमर&quot;</u></strong></div> <div> &raquo;&nbsp; किसी दुश्मन देश की रडार में पकड़ में नहीं आने वाली तकनीक।&nbsp;</div> <div> &raquo;&nbsp; यह तकनीक, रडार को भ्रमित कर देती है।</div>

Back to Top