महात्मा गांधी नरेगा दिवस

महात्मा गांधी नरेगा दिवस (2 Feb) :-

•  २ फरवरी 2006 से शुरुआतI


•  दसवां मनरेगा दिवस


•  ‘इसके पीछे मुख्य उद्देश्य यह है कि मनरेगा का इस्तेमाल आजीविका आधारित सतत विकास सुनिश्चित करने के लिए किया जाए।’


•  मनरेगा से हर साल करोड़ों परिवारों को रोजगार के अवसर मिल रहे हैं और यह गरीब ग्रामीणों की आजीविका को बेहतर करने का एक अहम साधन बन गई है। उन्होंने कहा कि मनरेगा से ग्रामीण क्षेत्रों में प्राकृतिक संसाधन का आधार भी मजबूत हो रहा है।


•  पिछले एक साल के दौरान मंत्रालय ने इस योजना को युक्तिसंगत बना दिया है ताकि यह स्थानीय लोगों की जरूरतों एवं लाभार्थियों की मांग के लिहाज से और ज्यादा प्रासंगिक बन सके। इसके तहत पिछड़े क्षेत्रों पर ज्यादा से ज्यादा ध्यान दिया जाता है।


•  मनरेगा कामगारों एवं उनके पारिवारिक सदस्यों के कौशल तथा उद्यमिता का इस्तेमाल ‘एनआरएलएम’ के साथ मिलान भी किया जायेगा।


•  ग्रामीण विकास मंत्रालय ने टिकाऊ एवं उपयोगी परिसंपत्तियों के सृजन के लिए मनरेगा (महात्मा गांधी नरेगा) में अन्य योजनाओं को मिलाने पर ध्यान केन्द्रित करने का फैसला किया है। मंत्रालय ने इन योजनाओं को आपस में मिलाने संबंधी पहल के क्रियान्वयन पर नजर रखने के लिए एक नया मॉड्यूल पेश किया है।


•  मनरेगा में पारदर्शिता तथा जवाबदेही से जुड़े मसले सुलझाने के लिए सरकार द्वारा हाल ही में उठाए गए कदमों पर भी विशेष जोर दिया। उदाहरण के लिए, सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) आधारित कुछ विशेष दूरदर्शी कदम उठाए गए हैं। ईएफएमएस का सार्वभौमिकरण, प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) के तहत मनरेगा की अधिसूचना और मोबाइल के जरिए निगरानी की व्यवस्था इन विशेष कदमों में शामिल हैं। इसके अलावा, सामाजिक ऑडिट (लेखा-परीक्षा) प्रणालियों को भी मजबूत बनाया गया है।


•  मनरेगा योजना शौचालयों के निर्माण के माध्यम से स्वच्छ भारत अभियान जैसे अन्य प्रमुख कार्यक्रमों का भी समर्थन करती है। स्वच्छ भारत अभियान (ग्रामीण) के एक हिस्से के रूप में वर्ष 2019 तक स्वच्छ भारत के लक्ष्य तक पहुंचने के लिए मनरेगा योजना को इस पहल के साथ जोड़ दिया गया है, जिसके द्वारा अगले 5 वर्षों के दौरान लगभग 2 करोड़ व्यक्तिगत परिवार शौचालयों (आईएचएचएल) का निर्माण किया जाएगा।


•  राज्यों से भी आग्रह किया गया है कि वे प्रधानमंत्री जन-धन योजना के अधीन मौजूदा मनरेगा श्रमिकों को बैंक खाते से जोड़ें और इस योजना के अधीन नए श्रमिकों के लिए बैंक खाता खुलवाएं।


•  इस अवसर पर मनरेगा दस्तावेज- 'रिपोर्ट टू द पीपल' और 'रिपोर्ट ऑन कैपेसिटी बिल्डिंग' भी जारी किए गए। मनरेगा के साथ योजनाओं को जोड़ने तथा आजीविका में सहायता करने में महत्वपूर्ण कार्य के लिए मध्य प्रदेश को पुरस्कृत किया गया है।
 

Back to Top