वैश्विक भुखमरी सूचकांक – 2014

वैश्विक भुखमरी सूचकांक’ (GHI) विश्व के विकासशील देशों में भुखमरी व कुपोषण की गणना एवं इसके तुलनात्मक अध्ययन हेतु बहुआयामी सूचकांक है। इस सूचकांक को ‘अंतर्राष्ट्रीय खाद्य नीति  अनुसंधान संस्थान’ (International Food Policy Research Institute-IFPRI) द्वारा दो गैर-सरकारी संगठनों (NGOs)- ‘वेल्ट हंगर हिल्फ’ (Welt Hunger Hilfe) और ‘कन्सर्न वर्ल्डवाइड’ (Concern Worldwide) की सहायता से प्रतिवर्ष प्रकाशित किया जाता है। इस सूचकांक को तीन संकेतकों के आधार पर तैयार किया जाता है-अल्प-पोषण (Under-nourishment), बाल अल्पवजन (Child Underweight) एवं बाल मृत्यु दर (Child Mortality Rate)। इस सूचकांक में कम मान देश की अच्छी स्थिति को दिखाता है वहीं अधिक मान देश में भयावह भुखमरी को प्रदर्शित करता है। इस सूचकांक में पांच वर्ग बनाए गए हैं- 4.9 या उससे कम‘अल्प’ (Low), 5-9.9 ‘मध्यम’ (Moderate), 10-19.9 ‘गंभीर’ (Serious), 20-29.9 ‘भयावह’ (Alarming) और30 या उससे अधिक ‘चरम भयावह’ (Extreme Alarming) वर्ष 2014 के लिए यह सूचकांक 13 अक्टूबर, 2014को जारी किया गया।

 

इस सूचकांक के महत्त्वपूर्ण बिंदु इस प्रकार हैं- ·    

वैश्विक भुखमरी सूचकांक (GHI)-2014 में भारत का स्थान 55वां (76 देशों में) है। भारत का वर्ष 2013 में 63वां स्थान था। GHI स्कोर निकालने का फार्मूला G H I =    PUN + CUW + CM 3 G H I –     वैश्विक भुखमरी सूचकांक P U N-     अल्पपोषित जनसंख्या का प्रतिशत C U W-   पांच वर्ष से कम आयु के अल्पवजन बच्चे C M- पांच वर्ष से कम आयु के बच्चों की मृत्यु दर (प्रतिशत में) ·     

 

  इस वर्ष भारत की स्थिति पाकिस्तान एवं बांग्लादेश (दोनों 57वें स्थान पर) से बेहतर है, लेकिन वह नेपाल (44वां स्थान) और श्रीलंका (39वां स्थान) से अभी भी पीछे बना हुआ है। वैश्विक भुखमरी सूचकांक, 2014 में भारत का स्कोर 17.8 है। गत वर्ष भारत का स्कोर 21.3 था। इस प्रकार इस वर्ष भारत ‘भयावह’ (Alarming) वर्ग से निकलकर ‘गंभीर’ (Serious) वर्ग में आ गया। ·

 

 इस वर्ष भारत का स्कोर अल्प-पोषण में 17 (अर्थात 17% जनसंख्या अल्प-पोषित), बाल अल्पवजन में 30.7 (अर्थात 5 वर्ष से कम आयु के 30.7% बच्चे अल्पवजन) और बाल मृत्यु दर में 5.6 (अर्थात 5 वर्ष से कम आयु के 5.6% बच्चे बाल मृत्यु का शिकार) रहा। इस रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 1990 से 2014 तक वैश्विक भुखमरी की स्थिति में 39% सुधार हुआ है। वर्ष 1990 में विश्व का औसत GHI स्कोर 20.6 था जो 2014 में 39% कम होकर 12.5 हो गया। ·     

 

भुखमरी की स्थिति में इस सुधार के बावजूद अभी भी‘गंभीर’(Serious) स्थिति बरकरार है। विश्व की 805 मिलियन आबादी (80.5 करोड़) अभी भी भुखमरी की चपेट में है। ·     

इस वर्ष की रिपोर्ट में ‘चरम भयावह’स्थिति वाले मात्र दो देश हैं-बुरुंडी (76वां स्थान) और इरिट्रिया (75वां स्थान)। इसके अलावा 14 देश ‘भयावह’ स्थिति में हैं। ·    

इस वर्ष की रिपोर्ट में सबसे कम GHI स्कोर मॉरिशस और थाईलैंड (स्कोर-5, प्रथम स्थान) का है। ·      

इस वर्ष की रिपोर्ट का केंद्रीय विषय है-‘छिपी हुई भुखमरी’(Hidden Hunger)।

Back to Top