संयुक्त राष्ट्र में भारत का आतंकवाद पर शून्य सहिष्णुता का आग्रह

- भारत ने आतंकवाद को किसी भी हाल में सहन नहीं करने की नीति पर अपनी प्रतिबद्धता दोहराई है। उसका कहना है कि आतंकवादी कार्रवाइयों को किसी भी तरह सही नहीं ठहराया जा सकता। -भारत के स्थायी प्रतिनिधि अशोक मुखर्जी ने संयुक्त राष्ट्र आतंकवाद विरोधी केंद्र (यूएनसीटीसी) के सलाहकार बोर्ड की नौवीं बैठक में भारत का पक्ष रखते हुए यह बात कही। 

 

- भारत ने यूएनसीटीसी से वैश्विक आतंकवाद विरोधी रणनीति के चारों स्तंभों के संतुलित ढंग से कार्यान्वयन की दिशा में अपने प्रयासों को जारी रखने की अपील की।

 

-ये चार स्तंभ हैं- 1.आतंकवाद के विस्तार में सहायक परिस्थितियों को दूर करना, 

2. आतंकवाद को रोकना व उससे लड़ना, 

3. आतंकवाद से लड़ने और उसे रोकने में राष्ट्रों की क्षमता को बढ़ाना तथा 

4. इस संबंध में संयुक्त राष्ट्र की भूमिका को बढ़ाना और मानवाधिकारों का सम्मान कायम करना। भारत ने विदेशी आतंकी लड़ाकों के स्वरूप को समझने के लिए जांच को अपना समर्थन दिया।  

Back to Top