पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास से अछूता रहा है

विभिन्‍न सम्‍बद्ध मंत्रालयों द्वारा चलायी जा रही विकास योजनाओं का ब्‍यौरा , जो इस प्रकार है :-

1. रेलवे पूर्वोत्‍तर क्षेत्र में रेलवे के बुनियादी ढांचे के विकास के लिए बृहत्‍त योजना में निम्‍नांकित शामिल हैं :-

    क) सभी राज्‍यों की राजधानियों के बीच संपर्क जोड़ना।

    ख) क्षेत्र में यूनीगेज ब्रॉडगेज नेटवर्क

     ग) भविष्‍य में यातायात में बढ़ोतरी को देखते हुए नेटवर्क क्षमता बढ़ाना।

     घ) अभी तक नेटवर्क से न जुड़े क्षेत्र के विभिन्‍न इलाकों में नेटवर्क का विस्‍तार।

     ड.) अंतर्राष्‍ट्रीय सीमाओं को सुदृढ़ करना।

      च) पड़ोसी राज्‍यों के साथ व्‍यापार और सम्‍पर्क में सुधार लाना। पूर्वोत्‍तर राज्‍यों में नई लाइन बिछाने, दोहरी लाइनें करने और गेज बदलने संबंधी 20 प्रमुख ढांचागत परियोजनाएं मंजूर की गई हैं। इनमें 10 राष्‍ट्रीय परियोजनाएं शामिल हैं। कुल मिला कर इन परियोजनाओं से 2919 किलोमीटर की दूरी कवर की जाएगी और उन पर 38310 करोड़ रुपये की लागत आएगी।

 

2. दूरसंचार पूर्वोत्‍तर क्षेत्र के लिए व्‍यापक दूरसंचार विकास योजना में निम्‍नांकित शामिल हैं :-

     क) चुने हुए और अभी तक कवर न किए गए क्षेत्रों में 2जी मोबाइल कवरेज का प्रावधान।

     ख) पूर्वोत्‍तर में राष्‍ट्रीय राजमार्गों के साथ अबाधित 2जी मोबाइल कवरेज का प्रावधान।

      ग) पूर्वोत्‍तर में राज्‍यों की राजधानियों और जिला मुख्‍यालयों के स्‍तर पर ट्रांसमिशन नेटवर्क की विश्‍वसनीयता और प्रचुरता सुनिश्चित करना।

 

3. सड़कें - पूर्वोत्‍तर के लिए विशेष त्‍वरित सड़क विकास कार्यक्रम के अंतर्गत राष्‍ट्रीय राजमार्ग और राज्‍य मार्गों के 10141 किलोमीटर लंबे हिस्‍सों का उन्‍नयन शामिल है। 

- इस परियोजना का उद्देश्‍य राष्‍ट्रीय राजमार्गों का उन्‍नयन, राज्‍यों की राजधानियों को चार लेन अथवा दो लेन सड़कों से जोड़ना और पूर्वोत्‍तर के 88 जिला मुख्‍यालय कस्‍बों को कम से कम दो लेन वाली सड़कों के साथ जोड़ना शामिल है।

 

4. विद्युत विद्युत क्षेत्र के विकास के अंतर्गत अन्‍य बातों के अलावा निम्‍नांकित शामिल हैं :-

(i) उत्‍पादन : पूर्वोत्‍तर क्षेत्र में 5596 मेगावाट क्षमता बढ़ाने का कार्यक्रम

(ii) ट्रांसमिशन :

      (क) अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम में 4754.42 करोड़ रुपये की लागत से ट्रांसमिशन और वितरण प्रणाली को सुदृढ़ करने का एक व्‍यापक कार्यक्रम।

      (ख) असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड और त्रिपुरा में ट्रांसमिशन और वितरण प्रणाली मजबूत बनाने के लिए 'पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विद्युत प्रणाली सुधार परियोजना'। कार्यक्रम की अनुमानित लागत 4923.32 करोड़ रुपये है।

      (ग) 12वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान ग्रामीण परिवारों को बिजली प्रदान करने के लिए 2311.37 करोड़ रुपये की लागत वाली परियोजना।

 

5. अंतरदेशीय जलमार्ग - भारतीय अंतरदेशीय जलमार्ग प्राधिकरण को बांगलादेश सीमा (धुबरी के निकट) से सादिया तक राष्‍ट्रीय राजमार्ग-2 (ब्रह्मपुत्र नदी) सहित राष्‍ट्रीय जल मार्गों के विकास का दायित्‍व सौंपा गया है। - इसका उद्देश्‍य लखीपुर से भांगा तक (121 किलोमीटर) बराक नदी और अंतरदेशीय जल परिवहन का विकास एक राष्‍ट्रीय राजमार्ग के रूप में करना है।

Back to Top